केजरी को अपना 'आपा' खोने की छूट..?

[dc]अरविंद[/dc] केजरीवाल अगर ‘तानाशाहों’ की तरह से काम करते हुए ‘आम आदमी पार्टी’ को चलाना चाहते हैं और अपने विरोधियों के साथ उसी तरह का व्‍यवहार करना चाहते हैं जैसा कि शनिवार को नई दिल्‍ली में पार्टी के कतिपय प्रमुख संस्‍थापक सदस्‍यों के साथ किया गया तो उन्‍हें ऐसा करने की छूट मिलनी चाहिए। अरविंद केजरीवाल को अपने काम करने का तरीका प्रजातांत्रिक रखना चाहिए या नहीं, इसका फैसला अब दिल्‍ली की जनता पर छोड़ देना चाहिए। प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, आनंद कुमार और अजीत झा को पार्टी की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी से बाहर कर दिया गया और दिल्‍ली की जनता ने इसका कोई विरोध नहीं किया, सड़कों पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त नहीं हुई। मान लिया जाना चाहिए कि अरविंद जो कुछ भी कर रहे हैं, उसे दिल्‍ली के मतदाताओं का समर्थन प्राप्‍त है। सिद्ध हो रहा है कि जनता की नब्‍ज़ पर अरविंद की पकड़ प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव के मुकाबले ज्‍यादा मजबूत है। अरविंद जो कुछ भी कर रहे हैं, उसे उनकी तात्‍कालिक मजबूरी भी माना जा सकता है। उन्‍हें पार्टी भी चलाना है और जनता से किए गए वायदों को पूरा करके भी दिखाना है। और फिर आंतरिक प्रजातंत्र और पारदर्शिता आज किसी और पार्टी में भी तो नहीं है। आज की तिकड़मी राजनीति में बने रहने के लिए अरविंद केजरीवाल अगर दूसरी पार्टियों की तरह के हथकंडे अपनाना चाहते हैं तो समझ लिया जाना चाहिए कि उनके निशाने पर प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव नहीं, बल्कि वे ताकतें हैं जो आम आदमी पार्टी को सत्‍ता से हिलाना चाह रही हैं। केजरीवाल की ‘दाद’ दी जा सकती है कि वे सोनिया गांधी, नरेंद्र मोदी, मुलायम सिंह, मायावती, नीतीश कुमार, ममता बनर्जी आदि की तरह ही ताकतवर बनकर उभरना चाह रहे हैं।
[dc]प्रशांत[/dc] भूषण, योगेंद्र यादव आदि के खिलाफ हुई कार्रवाई को लेकर अरविंद आदि के प्रति मीडिया के एकतरफा आक्रमण के पीछे छुपे संदर्भों को भी पढ़ा और समझा जा सकता है। जो कुछ भी चल रहा है, वह भारतीय राजनीति के वर्तमान चरित्र के अनुरूप ही है। थोड़े वक्‍त के बाद सबकुछ ठंडा पड़ जाएगा। आगे चलकर इस तरह के आरोप भी लगाए जा सकते हैं कि प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव विपक्षी दलों के इशारे पर आम आदमी पार्टी को कमजोर करने में लगे हुए हैं। कारण यह कि लड़ाई के मुद्दों को लेकर इन संस्‍थापक सदस्‍यों ने आवाज उठाने में थोड़ी जल्‍दबाजी कर दी। पार्टी और सरकार को थोड़ा जमने और अरविंद केजरीवाल को आगे बढ़कर गलतियां करने का वक्‍त दिया जा सकता था। जिस तरह के ‘अहंकारी’ बहुमत के साथ अरविंद सत्‍ता में काबिज हुए हैं, उन्‍हें उन मुद्दों के दम पर निश्चित ही चुनौती नहीं दी जा सकती है, जिनमें कि दिल्‍ली की ‘आत्‍मकेंद्रित’ जनता को कोई रुचि नहीं है। ‘आम आदमी पार्टी’ का प्रयोग अगर किन्‍हीं भी कारणों से कमजोर या विफल होता है तो विपक्षी दलों के एक होने की संभावनाओं पर भी पाला पड़ जाएगा। अन्‍य दलों की ‘तानाशाही’ व्‍यवस्‍था के साथ बराबरी का मुकाबला करने के लिए अरविंद केजरीवाल अगर अपनी प्रतिष्‍ठा और आम आदमी पार्टी की भविष्‍य की संभावनाओं को दांव पर लगा रहे हैं तो उन्‍हें इस तरह की ‘हाराकिरी’ की स्‍वीकृति दी जानी चाहिए। प्रशांत भूषण, योगेंद्र यादव, प्रो. आनंद कुमार और अजीत झा आदि ‘आप’ नेता द्वारा अपना ‘आपा’ खोकर असंयत शब्‍दों का इस्‍तेमाल करने की वजह बन सकते हैं, पर अरविंद केजरीवाल के विकल्‍प के रूप में स्‍वीकार नहीं किए जा सकते। इन अरविंद विरोधी नेताओं को स्‍वीकार कर लेना चाहिए कि आम आदमी पार्टी के संदर्भ में उनसे जितनी भूमिका की अपेक्षा की जा रही थी, वह अब पूरी हो चुकी है। अण्‍णा हजारे इनसे ज्‍यादा बुद्धिमान साबित हुए। अरविंद केजरीवाल आगे किस दिशा में बढ़ना चाहते हैं, इसका उन्‍हें पहले ही अनुमान और भान हो गया था और वक्‍त रहते उन्‍होंने अपने आपको अलग भी कर लिया।

Leave a comment

Your email address will not be published.