Archives

Click to expand month/dates

2015
Nov
27
देश को किधर ले जाएगा बिहार
“ उत्सुकता के साथ इसकी प्रतीक्षा कर रहा है कि बिहार के मुख्यमंत्री के रूप ...”
Oct
29
Bhagwat's Vijayadashmi Greetings to BJP
“ there any connection between the RSS chief Mohan Bhagwat’s traditional Vijayadashmi speech delivered in ...”
21
Is Nepal Turning Anti-India
“ the present and continuing phase of a deteriorating relationship between the two countries is ...”
07
From Bhopal to Petlawad, No Change !
“ did that most infamous and devastating gas tragedy take place in Bhopal, the capital ...”
Sep
09
Mulayam Singh dumps Nitish Kumar for Uttar Pradesh
“ has done it again and not quite unexpectedly. It was in the offing for ...”
02
Hardik Patel’s Agitation Casts a Shadow on Narendra Modi ?
“ is unlikely be the same again as it was under the unchallenged leadership of ...”
Aug
29
कहीं एक मोहरा भर तो नहीं हार्दिक?
“ सोचा था कि जो नरेंद्र मोदी एक सफल मुख्यमंत्री के रूप में गुजरात में ...”
20
नीतीश और केजरीवाल की नजदीकियों से बने नए समीकरण
“ कुमार और अरविंद केजरीवाल के बीच पिछले कई दिनों से लगातार बढ़ती जा रही ...”
17
भाजपा की जीत, 'व्यापमं' की हार
“ में भारतीय जनता पार्टी स्थानीय निकाय चुनावों में मिली कामयाबी से शायद ये स्थापित ...”
Jul
16
नीतीश की राजनीति में 'आप' कनेक्शन
“ के मुख्यमंत्री और जदयू नेता नीतीश कुमार और आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद ...”
08
बढ़ सकती हैं शिवराज की मुसीबतें
“ परीक्षा मंडल के कुख्यात फर्जीवाड़े में मध्यप्रदेश का समूचा राजनीतिक घटनाक्रम दिल्ली में तैयार ...”
07
व्यापमं: शिवराज के भविष्य पर कोई असर होगा?
“ में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी गंभीर मुश्किलों में नज़र आ रही है. समूची पार्टी ...”
Jun
23
राम माधव के ट्वीट और रंग में भंग
“ माधव अब चाहते हैं कि योग के कार्यक्रम को लेकर उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी को ...”
20
आडवाणी, आपातकाल और नरेन्द्र मोदी
“ में फिर से आपातकाल की आशंकाओं वाले भाजपा के पितृपुरुष लालकृष्ण आडवाणी के इंटरव्यू ...”
12
इस लड़ाई का अंत ​क्या होगा ?
“ केजरीवाल, केंद्र सरकार के साथ टकराव की राजनीति क्यों कर रहे हैं, और उसके ...”
10
बिहार चुनाव तय करेंगे देश की राजनीति की शक्ल
“ प्रसाद यादव अगर नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार विधानसभा का चुनाव लड़ने के ...”
08
बुच साहब की अनुपस्थिति लंबे अरसे तक खलेगी
“ की राजधानी भोपाल के अरेरा कॉलोनी स्थित हरियाली से आच्छादित उस बंगले पर अब ...”
05
व्यापम
“ में ​​व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापम) के हुए फर्जीवाड़े के सिलसिले में कितने लोगों की ...”
न क़त्ल हुए मौक़ों पर सवाल, न मौतों पर जवाब
“ व्यावसायिक परीक्षा मंडल घोटाले में कितने लोगों की जानें अब तक ज्ञात अथवा रहस्यमय ...”
01
May
26
When Promises Tend to Outrun Performance
“ the Narendra Modi government abysmally failed to deliver anything substantial during the past one ...”
25
केजरीवाल जंग
“ के उपराज्यपाल नजीब जंग और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के बीच अपने अधिकारों को लेकर ...”
Apr
01
केजरी को अपना 'आपा' खोने की छूट..?
“ केजरीवाल अगर 'तानाशाहों' की तरह से काम करते हुए 'आम आदमी पार्टी' को चलाना ...”
Mar
22
दिल्ली को पूरा देश न समझे 'आप'
“ केजरीवाल के बेंगलुरू से स्व स्था होकर वापस दिल्लीक लौटने के साथ ही आम ...”
09
कलम की ताकत को जानते थे विनोद मेहता
“ ऐसे वक्त जब संपादकों की जमात लगातार छोटी होती जा रही हो, पत्रकारिता रात-दिन ...”
08
अपनी शर्तों पर पत्रकारिता करते थे विनोद मेहता
“ मेहता का चले जाना इन मायनों में बड़ा नुकसान है कि अपनी शर्तों पर ...”
07
अरविंद केजरीवाल की चुप्पी उनकी ज़रूरत?
“ केजरीवाल अगर चाहते तो आम आदमी पार्टी के सामने खड़े हुए संकट को टाल ...”
Feb
11
दिल्ली की सीख अन्य राज्यों में भी पहुंचेगी
“ दिल्ली में हुए हैं और जश्न पटना, लखनऊ और कोलकाता में मनाये जा रहे ...”
2014
Dec
17
मलाला के मुल्क में मासूमों का कत्ल
“ का नोबेल पुरस्कार ग्रहण करते हुए मलाला यूसुफजई जब अपने दिल के कहीं बहुत ...”
05
हमारी भूमिका कहां से शुरू कहां खत्म?
“ रोडवेज की चलती हुई बस में जब पूजा और आरती नाम की दो बहनें ...”
Oct
21
विकास के एजेंडे में सुरक्षा की तलाश
“ राष्ट्रीय सार्वभौम सत्ता के रूप में हम मजबूत होते जा रहे हैं और हम ...”
'दंभ' के दायरों से बाहर आए कांग्रेस
“ जमाने की हिंदी फिल्मों की स्क्रिप्ट का यह एक अहम दृश्य होता था कि ...”
02
गांधी की याद आने के मायने
“ ऐसे राष्ट्र के जीवन में, जिसने विकास की उपलब्धियों से साक्षात्कार कर लिया है ...”
Sep
17
देश और भाजपा हित में अच्छे नतीजे
“ के नतीजों पर प्राप्त हो रही प्रतिक्रियाओं का रुख लगभग सही दिशा में ही ...”
Aug
21
सभी पड़ोसी बराबर हैं, नहीं भी हैं!
“ के साथ विदेश सचिव स्तर की बातचीत को रद्द करके मोदी सरकार ने इस्लामाबाद ...”
15
परिवर्तनों का श्रेय औरों को देने के खतरे
“ आसपास जो कुछ भी परिवर्तन होता हुआ हम देख रहे हैं, उसे लेकर हम ...”
02
अब नटवर की 'अंतरात्मा ' की आवाज
“ नटवर सिंह की बहुचर्चित, बहुप्रतीक्षित और बहुत विवादित बनने वाली अंग्रेजी किताब 'वन लाइफ ...”
Jul
26
'कांग्रेसमुक्त भारत' या 'भारतमुक्त कांग्रेस'
“ 1984 के चुनावों में भाजपा को मात्र दो सीटें मिली थीं, पर इसके बावजूद ...”
17
वैदिक प्रकरण : सरकार दिखाए साहस
“ वेदप्रताप वैदिक को 'देशद्रोही' करार देते हुए उनकी गिरफ्तारी करने की मांग सरकार से ...”
15
अर्जेंटीनी 'स्वप्न' और जर्मन 'यथार्थ!'
“पनी उपलब्धियों को हर्ष के अतिरेक और विफलताओं को आंसुओं के समंदर में तब्दील कर ...”
11
'विपक्ष' के 'सरकार' बन जाने तक प्रतीक्षा कीजिए!
“रतीय राजनीति के पिछले डेढ़ दशक का लेखा-जोखा अगर खंगालें तो अरुण जेटली ने अटलजी ...”
09
जमीनी उम्मीदों के पहले सपनीला सफर?
“दी सरकार के 'स्वप्निल' रेल बजट पर किसी भी तरह की प्रतिक्रिया व्यक्त करने के ...”
May
30
'क्योंकि' कांग्रेस चुनाव हार गई है!
“ग्रेस पार्टी अपने लिए तो इन सामंतवादी संस्कारों से मुक्ति नहीं पाना चाहती है कि ...”
27
...यह उस क्षण का 'क्लाइमेक्स' था
“ई चार हजार से अधिक विशिष्ट, अति-विशिष्ट और अति-अति-विशिष्ट आमंत्रितों की उपस्थिति में राष्ट्रपति भवन ...”
25
शरीफ का साहस वाजपेयी युग की वापसी है
“णमूल कांग्रेस की तेज-तर्रार नेता और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नरेंद्र मोदी के ...”
22
अब माफी मांगने का वक्त भी गलत चुना
“ल्ली की जनता के विश्वास के साथ की गई 'धोखाधड़ी' के लिए 'आम आदमी पार्टी' ...”
19
17
ऐतिहासिक विजय, विराट दायित्व
“क्रवार, 16 मई 2014 का दिन ऐतिहासिक बन गया है। देश में राजनीति की अब ...”
Apr
23
प्रियंका को भी गुस्सा आता है!
“यंका गांधी का अपने आपको 'आहत' महसूस करना कांग्रेस के लिए संकट में राहत के ...”
22
'अच्छे दिन' आसानी से नहीं आएंगे
“रेंद्र मोदी देश के मुसलमानों को अपने नजदीक लाना चाहते हैं, पर उनकी ही पार्टी ...”
17
चुनावों के 'टेस्ट' में प्रियंका का 'टी-20'
“ग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया की बेटी और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी ...”
09
जूते और थप्पड़ के बीच का फर्क?
“रविंद केजरीवाल को इस तरह के सोच में पड़ने की जरूरत नहीं कि उन्हें थप्पड़ ...”
05
'फतवा', मोदी की मदद में तो नहीं!
“ल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कांग्रेस के हक में ...”
Mar
30
राहुल की कांग्रेस और वरुण की भाजपा!
“हुल गांधी में इतनी हिम्मत नहीं थी कि वे अपना सहारनपुर दौरा रद्द कर देते। ...”
24
भाजपा के भीतर की ‘परिवर्तन यात्रा’
“लकृष्ण आडवाणी की उम्मीदवारी को लेकर उत्पन्न हुआ संकट भारतीय जनता पार्टी के किसी नए ...”
20
काशी से भाग न पाएं केजरीवाल
“रविंद केजरीवाल नरेंद्र मोदी से हकीकत में ही टकराना चाहते हैं या फिर कोई नुक्कड़ ...”
आडवाणी के साथ शिवराज को भी संदेश!
“नरेंद्र मोदी ने पितृपुरुष आडवाणी के लिए गांधीनगर की सीट का फैसला करवाकर मध्यप्रदेश के ...”
15
मजमा न लगे तो मीडिया खराब!
“डिया को अरविंद केजरीवाल के प्रति अपना गुस्सा थूक देना चाहिए - ऐसी जगह पर, ...”
13
'नमो' के जाप पर 'भागवत' कथा
“धानमंत्री पद के लिए भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के नाम का जाप ...”
Feb
22
आकांक्षाएं राष्ट्रीय, राजनीति क्षेत्रीय
“श्री जयललिता अगर भारत राष्ट्र का प्रधानमंत्री बनने की अपनी इच्छा को पूरा नहीं कर ...”
20
रालेगण से अब फूटी ममता की किरण
“ण्णा हजारे तेज-तर्रार ममता बनर्जी को प्रधानमंत्री पद पर देखना चाहते हैं। कि ममता स्वयं ...”
14
इस बार हमला अंदर से!
“ग्रेस ने चुनावी मैदान में उतरने से पहले ही जनता का विश्वास गंवा दिया। गुरुवार ...”
Jan
29
जमीनी सवाल, आसमानी जवाब
“पनी ही आंखों से देखना और सुनना काफी आश्वस्त करने वाला अनुभव था कि कांग्रेस ...”
28
आडवाणी : अभी राज्यसभा जैसी उम्र नहीं
“श में इस समय जितने भी महत्वाकांक्षी बुजुर्ग राजनीति कर रहे हैं, उनमें लालकृष्ण आडवाणी ...”
22
चुनावों के पहले 'आप' की छोटी-सी अंगड़ाई
“रविंद केजरीवाल के लिए दिल्ली में काम पूरा हो गया है। वे 'आंशिक' रूप से ...”
20
चिंता जीतने की नहीं, जीतने नहीं देने की?
“ चीज साफ है और राजनीति को समझने वाले हर शख्स को अब नजर भी ...”
19
सैयदना, सुचित्रा, सुनंदा और शुक्रवार
“र्ष 2014 की जनवरी के तीसरे शुक्रवार को तीन हस्तियां सुबह से रात के बीच ...”
08
होश-ओ-हवास में नशे की वकालत?
“ख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी सरकार नर्मदा-शिप्रा लिंक ...”
04
प्रधानमंत्री का पार्टी के नाम संदेश!
“ डॉ. मनमोहन सिंह का इरादा देश की जनता को यह बताने का था कि ...”
2013
Dec
18
केजरीवाल का जनमत-संग्रह, राहुल की 'बरामदगी'
“हुल गांधी ने प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी का मुकाबला करने की तैयारी शुरू ...”
16
अण्णा हजारे या फिर अण्णा हारे?
“न 1975 में जब कांग्रेस पार्टी ने श्रीमती इंदिरा गांधी के नेतृत्व में देश को ...”
10
दिल्ली में अब आप-आप का खेल
“रविंद केजरीवाल दिल्ली के आम आदमी से एक और चुनाव में भागीदारी चाहते हैं। इसका ...”
09
'आम आदमी' का 'हाथ' कांग्रेस के खिलाफ
“प्त चुनाव परिणामों को चारों राज्यों की जनता का कांग्रेस के भ्रष्टाचार और उसका अतिरंजित ...”
Nov
30
'ज्यादती' अब होशो-हवास में?
“रुण तेजपाल जब इंडिगो की उड़ान से नई दिल्ली के हवाई अड्डे से गोवा के ...”
28
बेटियों के भरोसे को 'न्याय' का सवाल
“ तमाम लोग जो आरुषि हत्या प्रकरण में तलवार दंपति के लिए मौत की सजा ...”
23
'आप' के मुकाबले 'मीडिया' और 'सरकार'
“म आदमी पार्टी" के खिलाफ एक स्टिंग ऑपरेशन शायद जरूरी भी हो गया था। दो ...”
19
अब 'अण्णा अगेंस्ट केजरीवाल'
“ण्णा हजारे फिर से व्यस्त हो गए हैं। वे अपने गांव रालेगण सिद्धी, तालुका पारनेर, ...”
01
ऊंचे सरदार, लघु राजनीति
“रदार पटेल की दुनियाभर में सबसे ऊंची प्रतिमा स्थापित करने के अवसर का फायदा उठाकर ...”
Oct
17
आडवाणी को अंतत: 'मोदी सत्य' की प्राप्ति!
“रतीय जनता पार्टी के 'पितृ पुरुष' ने अपना और अपनी 'मातृ संस्था' का बिना ज्यादा ...”
04
लालू जेल में, कांग्रेस की रिहाई
“ष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के जरिए सत्ता में पहुंचने के बाद भ्रष्टाचार का ही एक ...”
01
प्रधानमंत्री का 'गांधी-दर्शन'
“धानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह अमेरिका से वापस घर लौट आए हैं। वे नहीं मानते हैं ...”
Sep
28
राहुल ने तो 'मन' का फैसला सुना दिया है!
“ मनमोहन सिंह अगर पद से त्यागपत्र देने के लिए अपनी ही पार्टी के जिम्मेदार ...”
26
बापू और मोदी के सपनों के बीच का फर्क
“जरात के मुख्यमंत्री ने भारतीय जनता पार्टी के लाखों कार्यकर्ताओं को जानकारी दी है कि ...”
14
न्याय मिला, पर निर्भया के जख्मों की टीस कायम
“श के राष्ट्रीय स्वाभिमान की प्रतीक नई दिल्ली में पिछले साल 16 दिसंबर को एक ...”
13
मोदी तो तय हैं, शेष करें 'सूर्य नमस्कार'
“धानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी के अवतार को लेकर कांग्रेस से ज्यादा भारतीय जनता ...”
07
पेड़, पत्तियां और पगडंडियां
“याद आ जाते हैं पिता अक्‍सर ही इन दिनों। भरने लगता है पानी घर में, जब-जब भी बरसात ...”
रिक्‍टर स्‍केल पर सेवन पॉइंट नाइन
“और वह हाथ – जिसने पकड़ रखा था मज़बूती से, पहाड़ की तरह कंधा मेरा कुछ क्षण पहले तक ...”
क्‍यों रो रहा है हर कोई, यहां
“सबसे पहले आए आगे वे लोग हिम्‍मत करके ढूंढ़ रहे थे जो आंसुओं के तूफ़ान में तिनकों-से तैर ...”
बदलते हैं लोग, सरकार नहीं
“ऊंची-ऊंची हवेलियों में पसरे और सोने-चांदी जड़े मखमली गद्दों पर पैदा होते थे सरकार कभी। मिलने के लिए बनाकर कतारें ...”
पिता और इतिहास
“कभी सोच ही नहीं पाया मैं पूरी ईमानदारी से तुम्‍हारे बारे में। ड्राइंग रूम के किसी कोने में ...”
हो जाता पिता, कृष्‍ण का
“कुरुक्षेत्र की लहू-लुहान रणभूमि में – बाहुबलियों में क्षत-विक्षत पड़े और ठोकरें खाते शवों के बीच वे जो ...”
नहीं समझ पाते बच्‍चे कुछ भी
“मर्द जब जाते हैं मोर्चों पर बीवियां बुनती हैं पहाड़। सीखते हैं बच्‍चे लिखना – गिनती और पहाड़े पोखरों ...”
जानते हैं पहाड़
“पहाड़ नहीं जाते यात्राओं पर कहीं लौटते भी नहीं कहीं से वे वापस। करते हैं केवल प्रतीक्षा। खड़े-खड़े और छोड़े ...”
यात्राओं में
“यात्राओं में ऐसा तो होता ही है। बहुत सारे लोग जो साथ थे कल शाम तक आज नहीं ...”
साठ साल पूरे करने पर
“आसान नहीं है सब कुछ कहानी-किस्‍से गढ़ लेने की तरह। घुटनों के बल चलकर खड़े होने की कोशिशों और ...”
अज्ञात भय
“कुछ हुआ होगा ज़रूर वे तमाम लोग जो दिन के उजाले में घेरे रहे हमेशा मुझे ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों की ...”
एक नदी, एक पहाड़
“न जाने कब दबे पांवों और चुपचाप चले गए तुम छोड़कर मां की आंखों में एक नदी और कंधों पर मेरे लगातार भारी ...”
अंत से शुरुआत
“हो जाती हैं समाप्‍त शुरू होने से पहले ही कई बार, यात्राएं। टकराने लगते हैं जब आपस में अपनी ...”
पिता, एक तलाश
“कहां-कहां नहीं ढूंढ़ा तुम्‍हें मैंने घर के कोने-कोने पुरानी फ़ाइलों, ख़तों, एलबमों और जर्जर हो चुके तुम्‍हारे बही-खातों के ...”
क्‍यों होता है ऐसा?
“हरेक भगदड़ के दौरान क्‍यों होता है ऐसा छूट जाती है औरत ही हर बार पीछे? घर में भी ...”
इतिहास की खोज
“काग़ज़ों से नहीं डरा मैं इतना पहले कभी भी। स्‍याही का रंग चेहरे पर पुती कालिख से भी ...”
चुपचाप तुम
“कुछ भी तो नहीं मांगा तुमने कभी कुछ मुझसे न मेरा आकाश और न ही साम्राज्‍य धरती का। ...”
पश्‍चाताप
“कंठाली किराने वाले की दुकान पर सुबह से शाम बैठे हुए जब तुम बुनते रहते थे सपने मेरे ...”
छुटि्टयों में इस बार
“उदास हैं बच्‍चे – नहीं जा पाएंगे छुट्टियों में पहाड़ों पर इस बार। होता है कई मर्तबा ...”
बेटी के जन्‍मदिन पर
“यह अनुभव करने के लिए कि छोटी है बहुत दुनिया और आदमी बौना भी दिख सकता है ज़रूरी ...”
06
'बाबाओं' की सवारी, राजनीति पर भारी
“पने ही आश्रम की एक किशोरी के साथ दुष्कृत्य के आरोप में दो सप्ताह की ...”
Aug
29
धार्मिक यात्रा का राजनीतिक महात्म्य
“श्व हिंदू परिषद की चौरासी कोसी परिक्रमा यात्रा के 25 अगस्त को अपेक्षाकृत अंदाज में ...”
28
पिता, तुम तो पहाड़
“वह जो पहाड़, खड़ा किया था तुमने पत्थर के टुकड़ों को अपनी लगातार ज़ख़्मी होती पीठ पर ढो-ढोकर आज भी ...”
24
जब पहुंचें हम ज़मीन पर अपनी
“वक्‍़त बदल गया है! अब काम नहीं चलने वाला इतना भर कह देने से कि - पहुंच गए ...”
17
प्रधानमंत्री और होने वाले 'प्रधानमंत्री'
“रेंद्र मोदी के पक्ष में भारतीय जनता पार्टी और उनके समर्थकों का लोहा इतना गरम ...”
14
जनता के प्रतिपक्ष में पक्ष-विपक्ष
“स सवाल का जवाब ढूंढ़ने का शायद समय आ पहुंचा है कि एक राष्ट्र के ...”
09
‘संस्कार’ क्षेत्रीय, आकांक्षा अखिल भारतीय
“त्तर प्रदेश की आईएएस अफसर दुर्गा शक्ति नागपाल के निलंबन से उपजे विवाद में समाजवादी ...”
06
दुर्गा की शक्ति ने उतारी नकाबें
“र्गा शक्ति नागपाल का अगर निलंबन नहीं होता तो उस उत्तर प्रदेश की राजनीति का ...”
Jul
26
भरे पेट पांच और बारह की राष्ट्रीय बहस
“ग्रेस ने अगर अपने बड़बोले नेताओं के 'जुबानी डायरिया' का वक्त रहते डॉक्टरी इलाज नहीं ...”
15
‘देसी’ नेता, ‘बिदेसी’ पत्रकार
“जरात के मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री पद के लिए भारतीय जनता पार्टी के सबसे ज्यादा संभावित ...”
12
अब बारी है मेरी प्रतीक्षा करने की
“अंधेरी रात की उस घड़ी में टटोल रहे थे तुम जब आंखों की कोई चमक दिखाने के ...”
09
कौन हैं ये बिखरे हुए लोग?
“कौन हैं ये तमाम लोग जो धागे से टूटकर गिरी हुई पन्नियों की तरह यूं जमीन और ...”
Jun
29
हे पिता, केदारनाथ!
“होने लगा है वक्त अब हमारे घर लौटने का प्रभु दीजिए इजाजत हमें, हे केदारनाथ! ...”
17
सारे ही "महत्वाकांक्षी" जल्दबाजी में हैं
“तीश कुमार के फैसले के साथ ही नरेंद्र मोदी के नेतृत्व को चुनौती दे सकने ...”
11
भाजपा को 'पितृ पुरुष' चाहिए आडवाणी नहीं
“वा में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक खत्म होने की अगली सुबह ही भारतीय जनता पार्टी ...”
10
भाजपा बोले तो नरेंद्र मोदी!
“वा में नरेंद्र मोदी जीत गए। उन्होंने साबित कर दिया कि वे ही अब भारतीय ...”
08
कतरा क्यों रहे हैं आडवाणीजी गोवा जाने से?
“डवाणी समेत भाजपा के वे सभी नेतागण जो गोवा में नरेंद्र मोदी का सामना करने ...”
04
अटलजी की मौजूदगी में "मुखौटों" की तलाश
“ जरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने जबसे प्रधानमंत्री पद के लिए अपनी दावेदारी हवा ...”
01
राजनीति व क्रिकेट में सब ‘श्री’संत
“श्रीनिवासन को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष पद पर बने रहने देने या ...”
May
26
राष्ट्रीय शोक और सामूहिक संकल्प का क्षण
“ह देश के भीतर से ही देश की आजादी पर किया गया एक ऐसा हमला ...”
11
अंगुली कटाकर शहादत का सुख
“र्नाटक विजय के बाद दस जनपथ के दरवाजों पर ढोल-ढमाकों के साथ जश्न का जो ...”
08
कांग्रेस की जीत या भाजपा की हार?
“रतीय जनता पार्टी को कर्नाटक में अपनी शर्मनाक हार का समाचार एक ऐसे समय प्राप्त ...”
03
और कितने अपमान!
“ जादी की पूर्व संध्या पर देश का जो विभाजन भारत और पाकिस्तान के रूप में ...”
01
क्या खुद सीबीआई आजाद होना चाहती है?
“प्रीम कोर्ट सीबीआई को तमाम तरह के राजनीतिक दबावों, अतिक्रमणों और "राजनीतिक आकाओं" के नियंत्रण ...”
Apr
30
आधे सच और पूरे झूठ के बीच
“श की जनता का हैरत में पड़ना स्वाभाविक है कि उसे अब किस पर और ...”
Mar
18
इस चुनौती से निपटकर दिखाएं शिवराज
“ल्ली दुनिया की "रेप कैपिटल" के तौर पर बदनामी बटोर रही है और देश की ...”
16
"नायकों" और "पुतलों" का फर्क
“क ऐसे वक्त जब समूचे देश में "कौन बनेगा प्रधानमंत्री" को लेकर एक जी-घबराऊ बहस ...”
03
मोदी यानी भाजपा का एक रुका हुआ फैसला
“रतीय जनता पार्टी ने जता दिया है कि नरेंद्र मोदी चाहे पार्टी की उतनी चिंता ...”
01
'वित्तीय घाटा' कम होगा या 'राजनीतिक घाटा?'
“माम भविष्यवाणियों को नकारते हुए वित्तमंत्री पी. चिदम्बरम ने घोषित तौर पर कोई चुनावी बजट ...”
Feb
27
पी. बंसल का पी. चिदम्बरम बजट
“श अगर केवल दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नाई, रायबरेली और अलवर तक ही सीमित है तो ...”
Jan
19
"हवा महल" के शहर में "जमीन" की चिंता
“ ग्रेस के जयपुर चिंतन शिविर में श्रीमती सोनिया गांधी के उद्बोधन की इस बात के लिए ...”
16
पाकिस्तान मांगे युद्ध, हम देंगे क्या?
“किस्तानी सैनिकों ने अपनी बर्बरतापूर्ण हरकत को पिछले मंगलवार को अंजाम दिया था। वे हमारे ...”
01
बदलाव के जज्बे के साथ करें वर्ष की अगवानी
“र्ष 2012 की जब हमने शुरुआत की थी तब बेशक हम उम्मीदों से भरे हुए ...”
2012
Dec
30
गणतंत्र दिवस के पूर्व जनता का संदेश
“स बहादुर लड़की की मौत हो गई, जिसे व्यवस्था की नपुंसकता के चलते बर्बरतापूर्ण तरीके ...”
21
गुजरात के परिणामों में पढ़ें राष्ट्रीय संदेश
“रेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने तीसरी बार गुजरात में चुनाव जीत ...”
16
क्‍यों बनाएं मोदी को प्रधानमंत्री?
“जरात के मुख्यमंत्री जिस क्षण भी स्वयं को अपनी स्वआरोपित आत्ममुग्धता से मुक्त कर लेंगे, ...”
06
सरकार और विपक्ष दोनों अल्पमत में
“टेल में एफडीआई के मुद्दे पर सरकार ने आखिरकार हारकर भी अपनी जीत दर्ज करा ...”
02
गुजरात : बड़ी जीत कि छोटी जीत?
“दी के तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने को लेकर उनके सभी तरह के विरोधियों के बीच ...”
Nov
22
सरकार की शुरुआत, कसाब का अंत
“रकार चाहती तो कसाब को फांसी पर चढ़ाने का फैसला काफी पहले भी कर सकती ...”
19
श्रद्धांजलि: साहस की राजनीति के शेर का अवसान
“ल ठाकरे अपनी अनुपस्थिति से पैदा होने वाली रिक्तता और उसके प्रभाव के प्रति पूरी ...”
16
जब तक है जान इस ट्रायल में
“रतीय जनता पार्टी ने अपने विवादास्पद अध्यक्ष नितिन गडकरी को एक राष्ट्रीय मुद्दे में बदलकर ...”
13
साजिद, सयाजी और शहर
“जिद धनानी ने मौका ही नहीं दिया कि कोई उन्हें कभी इत्मिनान से बता सके ...”
08
इस जीत के मायने अलग
“जनीतिक विश्लेषकों के अनुमानों को झुठलाते हुए बराक ओबामा एक बार फिर दुनिया के सबसे ...”
07
अब बराबरी की हो गई लड़ाई
“रतीय जनता पार्टी के नेताओं ने नितिन गडकरी को उनके पद पर बनाए रखने और ...”
06
हमला विपक्ष नहीं जनता पर!
“ल्ली के रामलीला मैदान में रविवार को हुई कांग्रेस की बहुचर्चित और बहुप्रचारित रैली के ...”
Oct
28
चुनाव तक के लिए राहत का इंतजाम
“ मनमोहन सिंह आज अपने मंत्रिमंडल का पुनर्गठन करने जा रहे हैं। सारे देश और ...”
26
भ्रष्टाचार का सीधा प्रसारण
“पीए सरकार अब भाजपा अध्यक्ष से जुड़ी कंपनियों पर लगे आरोपों की जांच करवाने वाली ...”
16
कोई तो झूठ बोल रहा है!
“जनीति भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के साम्राज्य की एक गंदी गटर में तब्दील होती जा रही ...”
07
संकट कांग्रेस का है, राष्ट्र का नहीं!
“                                                   बर्ट वाड्रा पर लगाए गए आरोपों को लेकर कांग्रेस के मंत्री और प्रवक्ता (सलमान खुर्शीद, ...”
06
दावेदारी दिल्ली की, दांव पर एनडीए
“जरात के चुनाव इसलिए महत्वपूर्ण हैं कि उसके परिणाम न सिर्फ एनडीए बल्कि भाजपा को ...”
Sep
23
पेड़ों पर पैसे और हथेलियों पर सरसों
“धानमंत्री का कहना बिलकुल ठीक है कि पैसा पेड़ों पर नहीं लगता। डॉ. मनमोहनसिंह चूंकि ...”
19
ममता ने भेड़िये को पेश भी कर दिया
“कांग्रेस के नेता छतों पर चढ़कर चिल्ला रहे थे कि ममता बनर्जी अगर अपना समर्थन ...”
15
मजबूरी के "लकवे" से मुक्ति!
“ममता बनर्जी ने फिर से धमकी दी है। बंगाल की फायर ब्रांड नेत्री ने इस ...”
14
कोयले की कालिख पर डीजल का छिड़काव
“डीजल की कीमतों में पांच रुपए लीटर (स्थानीय करों को छोड़कर) की वृद्धि के फैसले ...”
Aug
15
जनतंत्र की प्रयोगशाला में जन-गण
“महिला मुक्केबाज मैरीकॉम जब अपनी तमाम व्यक्तिगत मेहनत, अपने परिवार और दो छोटे-छोटे बच्चों की ...”
07
जनता का भंग होना अभी बाकी है
“इस अद्भुत संयोग की दाद दी जानी चाहिए कि अण्णा और आडवाणी दोनों के ब्लॉग्स ...”
04
अण्णा का नारियल पानी, कांग्रेस की सेहत
“टीम अण्णा का अनशन समाप्त हो गया है। अब चुनाव तक के अगले दो-तीन सालों ...”
03
आंदोलन जो बदल जाएगा 'टोपी' में
“'पॉलिसी पेरेलिसिस" के आरोपों से संघर्ष करती मनमोहन सिंह सरकार अब अगले डेढ़-दो सालों के ...”
Jul
20
'दरबार' हॉलों में परिवर्तन की बयार
“राहुल गाँधी ने घोषणा कर दी है कि माँ सोनिया गाँधी और प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहनसिंह ...”
11
आलोचना के बहाने राहुल गाँधी की तारीफ
“कानून मंत्री सलमान खुर्शीद को अपने कहे हुए पर पश्चाताप करने की जरूरत नहीं है। ...”
Jun
29
हिंसक भीड़ में बदलता असुरक्षित नागरिक
“चार-वर्षीय अबोध बालिका शिवानी के साथ दुराचार के बाद उसकी नृशंस हत्या का दुस्साहस करने ...”
20
चुनाव राष्ट्रपति का, लड़ाई प्रधानमंत्री पद की
“समाचार विश्लेषण आम जनता के विश्वास के साथ खुलेआम धोखाधड़ी का और कोई उदाहरण नहीं हो ...”
17
खेल का खत्म होना जरूरी है
“समाचार विश्लेषण विपक्षी पार्टियों की तरफ से अगर कोई बड़ा आसमान नहीं फटा तो प्रणब मुखर्जी ...”
May
03
राष्ट्रपति भवन का राजनीतिकरण? विशेष टिप्पणी : श्रवण गर्ग
“ प्रधानमंत्री का पद जब कमजोर हो जाता है तो राष्ट्रपति भवन ज्यादा वजनदार बन ...”
Apr
01
श्रवण जी ने कहा - मुझे लगता है आपको एक्‍सपोजर की जरूरत है - महेश शर्मा
“यही कोई पंद्रह वर्ष पहले की बात है, जब श्रवण जी गर्ग से पहली मुलाकात ...”
Mar
31
श्रवण गर्ग ने छोड़ा दैनिक भास्कर
“दैनिक भास्कर समूह से भी एक बड़ी खबर है। भास्कर को भास्कर बनाने में अहम ...”
श्रवण गर्ग ने भास्कर क्यों छोड़ा ? – अजु‍र्न राठौर
“श्रवण गर्ग के भास्कर छोड़ने की खबर चौंकाने वाली है भास्कर के साथ श्रवण गर्ग ...”
श्रवणजी, अब आपसे सीखने को और ज्‍यादा मिलेगा - धीरज तागरा
“श्रवण गर्ग जी से कभी मिलना नहीं हुआ, केवल उनका लिखा हुआ पढ़ता रहा हूँ. ...”
30
दैनिक भास्कर से श्रवण गर्ग युग खत्म, दिया इस्तीफा
“दैनिक भास्कर को ऊंचाई देने वाले श्रवण गर्ग युग का कल अंत हो जाएगा। खबर ...”
दैनिक भास्कर समूह से श्रवण गर्ग का इस्तीफा
“नई दिल्ली / दैनिक भास्कर समूह से एक बड़ी खबर है. दैनिक भास्कर में लम्बे ...”
समूह संपादक श्रवण गर्ग का दैनिक भास्कर इस्तीफा - दरबारीलाल
“कई दशक तक दैनिक भास्कर के पर्याय बने रहे श्रवण गर्ग का भास्कर समूह से ...”
श्रवण गर्ग का जाना दैनिक भास्कर को महंगा पड़ेगा - भड़ास4मीडिया
“दैनिक भास्कर के लिए ब्रांड अंबेसडर बन चुके थे श्रवण गर्ग. न्यूज चैनलों पर, सेमिनारों ...”
समूह संपादक श्रवण गर्ग का दैनिक भास्कर समूह से इस्तीफा - भड़ास4मीडिया
“कई दशक तक दैनिक भास्कर के पर्याय बने रहे श्रवण गर्ग का भास्कर समूह से ...”
23
श्रवण गर्ग की ताकत को कम करके यतीश राजावत को मजबूत किया जा रहा है - DinmanNews
“दैनिक भास्‍कर में श्रवण गर्ग को लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. ...”
22
हम लोग एक सुनियोजित षड़यंत्र के शिकार हो रहे हैं - श्रवण गर्ग
“समाचारी४मीडिया.कॉम ब्यूरो समाचार४मीडिया के मीडिया मंथन में दैनिक भास्कर के समूह संपादक श्रवण गर्ग ने प्रिंट ...”
Jan
04
03
श्रवण गर्ग को प्रतिष्ठित लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय अवार्ड
“ भास्कर न्यूज/पुणे निक भास्कर समाचारपत्र के समूह संपादक और वरिष्ठ पत्रकार श्रवण गर्ग को पत्रकारिता ...”
2011
Oct
27
मीडिया की नीयत में खोट की तलाश
“२७ अक्टूबर २०११ मीडिया को लेकर देश के लगभग सभी राजनीतिक दल इस समय परेशान हैं। ...”
20
जनता के प्रति जवाबदेही कितनी ईमानदार?
“२० अक्टूबर २०११ जनता के प्रति जवाबदेह माने जाने वाले मीडिया के भविष्य की चिंता करने ...”
07
कांग्रेस का अन्ना-शक्ति योग
“७ अक्टूबर २०११ जन लोकपाल विधेयक पर राजनीतिक दलों को समर्थन के लिए बाध्य करने का ...”
Sep
20
उपवासों के राजनीतिक संदेश
“२० सितंबर २०११ नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए बहुचर्चित एवं बहुप्रचारित उपवास का राष्ट्र के नाम ...”
12
देश का गृह मंत्री कैसा हो?
“१२ सितंबर २०११ प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के पश्चात केंद्र सरकार में अगर किसी अन्य व्यक्ति ...”
07
आतंकवाद: फिर वही सवाल
“७ सितंबर २०११ देश में सबसे अधिक सुरक्षा प्राप्त शहर दिल्ली आज सबसे ज्यादा असुरक्षित बन ...”
01
औरत के बोलने की हिम्मत है 'बोल'
“ की औरत का चेहरा उसकी यातनाएं, बेबसी और एक निहत्थे इंसान के रूप में ...”
Aug
27
इसी क्षण की तो प्रतीक्षा थी देश को
“२७ अगस्त २०११ विक्रम संवत 2068 के भादो मास के कृष्ण पक्ष की तेरस या फिर ...”
25
थैंक्स अन्ना! जादू की छड़ी के लिए
“२५ अगस्त २०११ अन्ना जीत गए हैं। वे हजारों लोग जो दिल्ली के रामलीला मैदान ...”
22
अनशन पर अन्ना, सेहत सरकार की खराब
“२२ अगस्त २०११ अनशन अन्ना हजारे कर रहे हैं, जान सरकार की दांव पर लगी है। ...”
18
रस्सी बस जली भर है, बल वैसे ही कायम हैं
“१८ अगस्त २०११ तिहाड़ जेल से बाहर निकलने के बाद अन्ना हजारे रामलीला मैदान में उमडऩे ...”
16
सरकार तो है मगर 'अफसोस' के साथ
“१६ अगस्त २०११ अन्ना हजारे और उनके समर्थकों के साथ दिल्ली में लालकिले की नाक ...”
06
री-इन्वेंटिंग रीजनल जर्नलिज्म
“ ६ अगस्त २०११ झारखंड के युवा कवि अनुज लुगुन की जिस कविता ‘अघोषित उलगुलान’ ...”
Jul
12
मनमोहन सिंह का फेरबदल
“१२ जुलाई 2011 डॉ. मनमोहन सिंह के इस कथन पर यकीन करना ही होगा कि वर्तमान ...”
09
टेलीविजन पर विपक्ष!
“९ जुलाई २०११ विपक्षी दल इस समय 'मजा आ रहा है' की मुद्रा में हैं। ...”
08
लॉबीइंग, पैसे के बदले खबर और समकालीन पत्रकारिता
“ ८ जुलाई २०११ मीडिया के भविष्य की चिंता करने वालों के बीच इन दिनों सबसे ...”
07
खांटी संपादकों में एक प्रभाष
“७ जुलाई २०११ प्रभाष जोशी उस पीढ़ी के थोड़े से बचे हुए संपादकों की जमात ...”
01
प्रधानमंत्री का पद और राहुल
“१ जुलाई २०११ देश को एक गैर-जरूरी बहस में व्यस्त किया जा रहा है कि राहुल ...”
Jun
18
अन्ना अब अनशन नहीं करें
“१८ जून २०११ अन्ना हजारे को समझाया जाना चाहिए, उन्हें मनाया जाना चाहिए और जरूरत पड़े ...”
03
समझौते अभी कतार में हैं! प्रतीक्षा कीजिए
“३ जून २०११ ऐसा मानना हड़बड़ी में कोई कठिन आसन लगाने जैसा होगा कि ...”
May
31
डरी हुई एक सरकार और अण्णा 'हजारों'
“३१ मई २०११ सरकार की नीयत पर संदेह करने के पर्याप्त कारण हैं कि व्यवस्था में ...”
02
ओसामा खत्म हुआ है, आतंकवाद नहीं
“२ मई २०११ आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका की लड़ाई कितने खतरनाक मुकाम पर पहुंच चुकी ...”
Mar
05
चाणक्य और चंद्रगुप्तीय आकांक्षाएं
“५ मार्च २०११ अर्जुन सिंह अगर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) से स्वस्थ होकर बाहर ...”
03
सरकार यानी- आ थॉमस मुझे मार!
“३ मार्च २०११ केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के पद पर पी.जे. थॉमस की नियुक्ति को रद्द ...”
Feb
28
सरकार का स्वास्थ्य और देश की बीमारी
“२८ फरवरी २०११ विपक्षी दलों की प्रतिक्रिया को ही अगर देश की सोच भी मान ली ...”
25
गठबंधन की जरूरतों का रेल बजट?
“२५ फरवरी २०११ आम आदमी के लिए रेल बजट की परिभाषा को ममता बनर्जी ने ...”
16
कमजोरियों का मजबूरियों से बचाव
“१६ फरवरी २०११ कोई प्रधानमंत्री अगर अपनी व्यक्तिगत छवि को सरकार की छवि से अलग ...”
05
मिस्र:अपनी-अपनी चिंताएं
“५ फरवरी २०११ मिस्र में वहां के राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के प्रति व्यक्त हो रहे राष्ट्रीय ...”
02
लगना भी चाहिए कि राजा पकड़ाया है
“२ फरवरी २०११ राजा की गिरफ्तारी बहुत जरूरी थी। प्रजा की बेचैनी सडक़ों पर अंगड़ाइयां लेने ...”
Jan
31
अदालती सक्रियता, विपक्ष का शिलाजीत
“३१ जनवरी २०११ ऐसा महसूस हो रहा है कि देश को इस समय कोई जनता ...”
20
कहानी के पात्रों की जीवन में खोज
“२० जनवरी २०११ असीमानंद के कथित कुबूलनामे ने हिन्दू कट्टरपंथियों के साथ-साथ इस्लाम के नाम पर ...”
19
खोदा पहाड़, निकला पहाड़
“१९ जनवरी २०११ विपक्ष द्वारा लगभग ठप की जा चुकी संसद के आने वाले बजट सत्र ...”
13
राष्ट्रीय संकट और राग दरबारी
“१३ जनवरी २०११ जिस तरह की अस्थिरता का माहौल इस समय देश में व्याप्त है, ...”
12
किसी को नंबर वन से हटाने के लिए काम नहीं कर रहे
“हिंदी पत्रकारिता जगत में श्रवण गर्ग चर्चित और सम्मानित नाम हैं. लंबे समय से दैनिक भास्कर ...”
2010
Dec
20
मध्यावधि का महाधिवेशन?
“२० दिसंबर २०१० तीन-दिनी कांग्रेस महाधिवेशन में जिस तरह से संघ परिवार को निशाना बनाया ...”
18
बेवजह बचाव की मुद्रा में है कांग्रेस!
“१८ दिसंबर २०१० कट्टरपंथी हिन्दू संगठनों द्वारा फैलाए जाने वाले धार्मिक तनाव को लेकर राहुल ...”
01
खतरों की मुनादियों में छुपे खतरे
“१ दिसंबर २०१० आतंकवादी हमलों की आशंकाओं को लेकर समूचे देश या कुछ संवेदनशील ...”
Nov
24
बिहार अब पूरी तरह से आजाद है!
“२४ नवंबर २०१० बिहार विधानसभा के चुनाव परिणाम इससे ज्यादा चमत्कारिक नहीं हो सकते थे। ...”
03
दो तरह का देश, दो तरह की कांग्रेस?
“३ नवंबर २०१० कांग्रेस पार्टी, ऐसा लगता है, किसी भी तरह की जोखिम लेने के ...”
Oct
23
भीड़ के बीच अकेलेपन की प्रगति-साधना
“२३ अक्टूबर २०१० एक जमाना था जब रेलगाडिय़ों के वातानुकूलित या अन्य आरक्षित डिब्बों में ...”
14
खेल खतम, पैसा हजम!
“१४ अक्टूबर २०१० शंका-कुशंकाओं और आधी-अधूरी तैयारियों के साये में प्रारंभ हुआ राष्ट्रमंडल खेलों का ...”
07
संघ, सिमी और (राष्ट्रीय) समझदारी
“७ अक्टूबर २०१० राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और सिमी के बीच समानता स्थापित करते समय राहुल ...”
02
उनसे ही पूछलें कि फैसला क्या होना था?
“२ अक्टूबर २०१० लखनऊ की अदालत ने जमीन के जिस टुकड़े के तीन हिस्से करके बांटने ...”
Sep
30
केंचुलियां और नकाबें उतरने में वक्त लगेगा
“३० सितंबर २०१० देश सावधानी के साथ राहत की थोड़ी सांस ले सकता है। साठ साल ...”
27
फैसले के अमल की गारंटी कौन देगा?
“२७ सितंबर २०१० सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आज दी जाने वाली व्यवस्था शायद तय कर पाए कि ...”
24
राष्ट्रमंडल खेलों में ‘असली भारत’ की खोज?
“२४ सितंबर २०१० राष्ट्रमंडल खेलों की आधी-अधूरी तैयारियों को लेकर इस समय बहुत नाराजगी है। यह ...”
Aug
13
भक्तों के सागर में भगवान की स्थापना का तरुण प्रयास
“१३ अगस्त २०१० एक ऐसा कालखंड जिसमें कि चमचमाती खादी अथवा रेशमी वस्त्र धारण कर ...”
Jul
23
जो दिख रहा है दांव पर वही नहीं है
“ २३ जुलाई २०१० प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह द्वारा सोमवार से प्रारम्भ हो रहे संसद ...”
22
मुठभेड़ के लिए एक बजे का इंतजार!
“ २२ जुलाई २०१० यह लगभग तय हो गया है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ...”
Jun
24
इस आपातकाल से कौन लड़ेगा?
“२४ जून २०१० देश को एक नए प्रकार के आपातकाल की ओर धकेला जा रहा ...”
09
डर त्रासदी का नहीं, भरोसा उठ जाने का है
“९ जून २०१० भोपाल गैस त्रासदी को लेकर अदालत द्वारा सोमवार को दिए गए फैसले ...”
May
21
जश्न के बहाने ढूंढ़ता सरकार का पहला साल
“२१ मई २०१० यूपीए की सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल का पहला साल पूरा कर ...”
Apr
17
थरूर, देश की "राष्ट्रीय चिंता" नहीं हैं
“१७ अप्रैल २०१० देश में अगर सर्वेक्षण करवाया जाए कि शशि थरूर को मनमोहन सिंह मंत्रिमंडल ...”
Mar
02
बहस का दायरा व्यापक होना चाहिए
“२ मार्च 2010 मीडिया में इन दिनों ‘पेड न्यूज’ को लेकर काफी चर्चाएं ...”
2009
Dec
18
आडवाणी का रथ से उतरना अभी बाकी है!
“१८ दिसंबर २००९ आगे आने वाले कई वर्षों और पीढिय़ों के लिए भारतीय जनता पार्टी ...”
Jun
02
नस्ली हमलों का असली इलाज यह नहीं है
“मेलबोर्न और सिडनी में भारतीय छात्रों पर हुए हमलों की घटनाओं को लेकर भारतीय मीडिया ...”
May
17
आडवाणी जी चाहें तो पुनर्विचार कर सकते हैं
“१७ मई 2009 आडवाणी जी चाहें तो पुनर्विचार कर सकते हैं - श्रवण गर्ग लोकसभा ...”
16
इस जीत के पीछे भी कोई वजह होनी चाहिए
“१६ मई २००९ यूपीए को मिले जन समर्थन से वे लोग भी हतप्रभ हैं, जिन्होंने वोट ...”
2008
Nov
02
'हिंदू टैरर': चुप्पी का मतलब स्वीकृति नहीं है
“इस्लामी आतंकवाद या ईसाई विस्तारवाद का मुकाबला करने के लिए हिंदू राष्ट्रवाद के नाम पर ...”
Oct
05
ईश्वर दर्शन के संकरे रास्ते
“जोधपुर के मेहरानगढ़ किले में स्थित चामुंडा माता मंदिर में मची भगदड़ में कोई सवा ...”
Sep
07
इस बिहारी को तो मुंबई में भी देखा है!
“कोसी नदी का पानी अपने किनारों को तोड़ता हुआ लाखों लोगों को अपनी चपेट में ...”
Aug
04
आतंकित करती नागरिक उदासीनता
“सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उजागर होने वाली प्रत्येक कमी के लिए खुफिया तंत्र को दोषी ...”
Jun
08
राजनेताओं की प्रतिमाएं और राजनीति के प्रतिमान
“उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती ने अपनी उस शानदार प्रतिमा को 1 जून की रात ...”
01
सरकारें संवादशून्य, नागरिक संवेदनाशून्य!
“राजस्थान में वर्तमान में चल रहे आंदोलन ने ‘देश की सरकार’ और ‘देश की जनता’ ...”
May
04
चापलूसी के चाचा चौधरी और कांग्रेस की अमरकथा
“राजीव गांधी राजनीति में पैर भी नहीं रखना चाहते थे। वे एक नितांत ही प्रायवेट ...”
2007
Dec
04
क्यों नहीं आता गुस्सा और फूटते हैं आंसू
“श्याम बेनेगल की स्मरणीय कृति ‘अंकुर’ के अंतिम दृश्य में समाज के सबसे शोषित वर्ग ...”
Apr
04
बाजार ही तय करेगा क्रिकेट और खिलाड़ियों का भविष्य
“देश में इन दिनों बहस चल रही है कि विश्व कप में हारकर लौटी टीम ...”